06 December, 2005

नया चर्चा-समूह : सशक्त भारत

आजकल चतुर्दिक में किसकी चर्चा है ? कौन सबसे तेज विकास कर रहा है ? किसका विकास विकसित देशों को भयभीत कर रहा है ?

आजकल रोज भारत और चीन के तीव्र विकास और उनके भविष्य के "सुपरपावर" बनने के शुभ समाचार पढने-सुनने को मिलते रहते हैं | इससे भारत में आशा की एक नयी लहर आ गयी है | जो लोग इस देश के प्रति प्रचण्ड निराशावादी थे , वे भी पाला बदलने लगे हैं |

इसी उत्साह्पूर्ण माहौल को समझने और आपस में बाँटने के उद्देश्य से मैने एक नया चर्चा-समूह बनाया है - सशक्त भारत | आप सभी से निवेदन है कि आप भी इस पर भारत के विकास से संबन्धित समाचारों को पोस्ट करते रहें , ताकि यह् समूह भारत के विकास के समाचारों से परिपूर्ण एक सम्पूर्ण साइट बन जाय | इससे माहौल को और खुशनुमा बनाने मे मदद मिलेगी | हम सभी लोग विकास के समाचारों से अधिकाधिक अवगत रहेंगे | सूचना-सम्पन्न ही शक्ति-सम्पन्न माना जाता है | सूचना-सम्पन्नता ( किसी सिस्टम के सम्पूर्ण ज्ञान ) से उस सिस्टम के उन बिन्दुओं का पता चलता है जहाँ अधिक "लीवरेज्" मिल सकता है ( कम प्रयत्न से अधिक लाभ ) | यही तो प्रगति का "मूल-मंत्र" है | इससे हिन्दी में इस तरह की अन्य चर्चाओं को भी बढावा मिलेगा |

कौन जाने जब विकसित भारत का इतिहास लिखा जाय , तब इस चर्चा-समूह की भी चर्चा हो |

1 comment:

Braj Kishore said...

भाई साहब आपके कृपा से हम भी अब सोच रहे है कि हिन्दी में कुच्छ लिखे। See my site
hindihk.blogspot.com