25 November, 2014

विभिन्न विषयोँ के संस्कृत ग्रन्थ

गणित
  1. अज्ञात रचना -- जयदेव (गणितज्ञ), उदयदिवाकर की सुन्दरी नामक टीका में इनकी विधि का उल्लेख है।
  2. बीजपल्लवम् -- कृष्ण दैवज्ञ -- भास्कराचार्य के 'बीजगणित' की टीका
  3. बुद्धिविलासिनी -- गणेश दैवज्ञ -- भास्कराचार्य के 'लीलावती' की टीका
  4. सारसंग्रह गणितमु (तेलुगु) -- पावुलूरी मल्लन (गणितसारसंग्रह का अनुवाद)
  5. क्षेत्रसमास -- जयशेखर सूरि (भूगोल/ज्यामिति विषयक जैन ग्रन्थ)
  6. सद्रत्नमाला -- शंकर वर्मन ; पहले रचित अनेकानेक गणित-ग्रन्थों का सार
  7. सूर्य सिद्धान्त -- रचनाकार अज्ञात ; वाराहमिहिर ने इस ग्रन्थ का उल्लेख किया है।
  8. युक्तिभाषा या 'गणितन्यायसंग्रह' (मलयालम भाषा में) -- ज्येष्ठदेव
  9. गणितयुक्तिभाषा (संस्कृत में) -- रचनाकार अज्ञात
  10. लघुविवृति -- शंकर वारियर
  11. क्रियाक्रमकरी (लीलावती की टीका) -- शंकर वारियर और नारायण पण्डित ने सम्मिलित रूप से रची है।
  12. कर्मदीपिका -- परमेश्वर -- महाभास्करीय की टीका
  13. परमेश्वरी -- परमेश्वर -- लघुभास्करीय की टिका
  14. विवरण -- परमेश्वर -- सूर्यसिद्धान्त और लीलावती की टीका
  15. दिग्गणित -- परमेश्वर -- दृक-पद्धति का वर्णन (१४३१ में रचित)
  16. गोलदीपिका -- परमेश्वर -- गोलीय ज्यामिति एवं खगोल (१४४३ में रचित)
  17. वाक्यकरण -- परमेश्वर -- अनेकों खगोलीय सारणियों के परिकलन की विधियाँ दी गयी हैं।
  18. करणकौस्तुभ -- कृष्ण दैवज्ञ

संस्कृत के व्याकरण ग्रन्थ और उनके रचयिता

  1. संग्रह -- व्याडि (लगभग ई. पू. 400 ; व्याकरण के दार्शनिक विवेचन का आदि ग्रन्थ)
  2. वाक्यपदीय -- भर्तृहरि (लगभग ई. 500, व्याकरणदर्शन का सर्वोत्कृष्ट ग्रंथ)
  3. त्रिपादी (या, महाभाष्यदीपिका) -- भर्तृहरि (महाभाष्य की टीका)
  4. भट्टिकाव्य (या, रावणवध) -- भट्टि (सातवीं शती)
  5. कच्चान व्याकरण -- कच्चान (पालि का प्राचीनतम उपलब्ध व्याकरण)
  6. मुखमत्तदीपनी -- विमलबुद्धि (कच्चान व्याकरण की टीका तथा न्यास, 11वीं सदी)
  7. काशिकाविवरणपंजिका (या, न्यास) -- जिनेंद्रबुद्धि (लगभग 650 ., काशिकावृत्ति की टीका)
  8. पदमंजरी -- हरदत्त (. 1200, काशिकावृत्ति की टीका)
  9. भागवृत्ति (अनुपलब्ध, काशिका की पद्धति पर लिखित)
  10. भाषावृत्ति -- पुरुषोत्तमदेव (ग्यारहवीं शताब्दी)
  11. सिद्धान्तकौमुदी -- भट्टोजि दीक्षित (प्रक्रियाकौमुदी पर आधारित)
  12. प्रौढमनोरमा -- भट्टोजि दीक्षित (स्वरचित सिद्धान्तकौमुदी की टीका)
  13. शब्दकौस्तुभ -- भट्टोजि दीक्षित (. 1600, पाणिनीय सूत्रों की अष्टाध्यायी क्रम से एक अपूर्ण व्याख्या)
  14. बालमनोरोरमा -- वासुदेव दीक्षित (सिद्धान्तकौमुदी की टीका)
  15. रूपावतार -- धर्मकीर्ति (ग्यारहवीं शताब्दी)
  16. तत्वबोधिनी -- ज्ञानेन्द्र सरस्वती (सिद्धांतकौमुदी की टीका)
  17. शब्दरत्न -- हरि दीक्षित (प्रौढमनोरमा की टीका)
  18. मनोरमाकुचमर्दन -- जगन्नाथ पण्डितराज (भट्टोजि दीक्षित के "प्रौढ़मनोरमा" नामक व्याकरण के टीकाग्रंथ का खंडन)
  19. स्वोपज्ञवृत्ति -- (वाक्यपदीय की टीका)
  20. परिभाषेन्दुशेखर -- नागेश भट्ट (इस यशस्वी ग्रंथ पर अनेक टीकाएँ उपलब्ध हैं।)
  21. लघुशब्देन्दुशेखर -- नागेश भट्ट (सिद्धान्तकौमुदी की व्याख्या)
  22. बृहच्छब्देन्दुशेखर -- नागेश भट्ट (सिद्धान्तकौमुदी की व्याख्या)
  23. शब्देन्दुशेखर -- नागेश भट्ट
  24. उद्योत -- नागेश भट्ट (पतंजलिकृत महाभाष्य पर टीकाग्रंथ)
  25. गदा -- परिभाषेंदुशेखर की टीका
  26. भैरवी -- परिभाषेंदुशेखर की टीका
  27. भावार्थदीपिका -- परिभाषेंदुशेखर की टीका
  28. परिमल -- अमरचन्द

रसविद्या के प्रमुख ग्रन्थ

इस विद्या के संस्कृत में बहुत से ग्रन्थ हैं।
  1. रसप्रकाश -- यशोधर

आयुर्वेद के प्रमुख ग्रंथ

इन्हें भी देखें- रसविद्या
  • वृहत्त्रयी :
* चरकसंहिता --- चरक
* सुश्रुतसंहिता --- सुश्रुत
* अष्टांगहृदय --- वाग्भट
  • लघुत्रयी :
* भावप्रकाश --- भाव मिश्र
* माधव निदान --- माधवकर
* भेलसंहिता -- भेलाचार्य

काव्यशास्त्र से सम्बन्धित ग्रन्थ

टीकाएँ

संगीत से सम्बंधित ग्रन्थ

  1. नाट्यशास्त्र -- भरत मुनि
  2. बृहद्देशीय -- मतंग मुनि
  3. नारदीय शिक्षा --
  4. संगीत मकरंद --
  5. सरस्वती हृदयालंकार -- मिथिला के राजा नान्यदेव (11वीं शती)
  6. अभिलषितार्थ चिंतामणि -- सोमेश्वर (12वीं शती)
  7. संगीतचूड़ामणि -- सोमेश्वर के पुत्र प्रतापचक्रवर्ती या जगदेकमल्ल (12वीं शती)
  8. संगीतसुधाकर -- चालुक्यवंशीय सौराष्ट्रनरेश महाराज हरिपाल (1175 ई.)
  9. संगीतरत्नावली -- सोमराज देव या सोमभूपाल (1180)
  10. गीतगोविन्द -- जयदेव (12वीं शती ई.)
  11. पंडिताराध्यचरितम् -- पाल्कुरिकि सोमनाथ (तेलगु में, 1270 ई.)
  12. संगीतरत्नाकर -- शार्ङ्गदेव (तेरहवीं शती)
  13. शृंगारहार -- शाकंभरि के राजा हम्मीर (लगभग 1300 ई.)
  14. संगीत-समय-सार -- जैन आचार्य पार्श्वदेव (लगभग 1300)
  15. संगीतसार -- विद्यारण्य (चौदहवीं शताब्दी)
  16. रागतरंगिणी -- लोचन कवि (पन्द्रहवीं शताब्दी)
  17. संगीतशिरोमणि -- अनेक पण्डितों का योगदान (मलिक सुलतान के आह्वान पर, पन्द्रहवीं शताब्दी)
  18. रसिकप्रिया -- मेवाड़ के महाराणा कुंभ (गीतगोविन्द की टीका, 1431-1469 ई.)
  19. संगीतराज -- महाराणा कुम्भ
  20. मानकुतूहल -- ग्वालियर के राजा मानसिंह तोमर (हिन्दी में, 15वीं शती)
  21. षड्रागचंद्रोदय -- पुण्डरीक विट्ठल (सोलहवीं शताब्दी)
  22. रागमाला -- पुण्डरीक विट्ठल
  23. रागमंजरी -- पुण्डरीक विट्ठल
  24. नर्तननिर्णय -- पुण्डरीक विट्ठल
  25. स्वरमेलकलानिधि -- कर्णाटक संगीत के विद्वान् रामामाला (1550 ई.)
  26. स्वरमेल कलानिधि -- रामामात्य (सोलहवीं शताब्दी)
  27. रागविबोध -- सोमनाथ (1609 ई.)
  28. संगीतसुधा -- तंजोर के राजा रघुनाथ (अपने मंत्री गोविंद दीक्षित की सहायता से 1620 ई. में)
  29. चतुर्दंडीप्रकाशिका -- व्यंकटमखी (सन् 1630 ई.)
  30. संगीतदर्पण -- दामोदर मिश्र (लगभग सन् 1630 ई.)
  31. हृदय प्रकाश -- हृदयनारायण देव (सत्रहवीं शताब्दी)
  32. हृदय कौतुकम् -- हृदयनारायण देव (सत्रहवीं शताब्दी)
  33. संग्रहचूड़ामणि -- गोविंद (1680-1700)
  34. संगीत पारिजात -- अहोबल (१७वीं शती)
  35. संगीत दर्पण -- दामोदर पण्डित
  36. अनूपविलास -- भावभट्ट
  37. अनूपसंगीतरत्नाकार --भावभट्ट
  38. अनुपांकुश --भावभट्ट
  39. संगीतसार -- जयपुर के महाराज प्रतापसिंह (1779-1804 ई.)
  40. अष्टोत्तरशतताललक्षणाम् -- सोमनाथ
  41. रागतत्वविबोध -- श्रीनिवास (18वीं शती)
  42. रागतत्वविबोध: -- श्रीनिवास पण्डित (अठारहवीं शताब्दी)
  43. संगीतसारामृतम् -- तंजोर के मराठा राजा तुलजेन्द्र भोंसले (18वीं शती)
  44. रागलक्षमण् -- तुलजेन्द्र भोंसले
  45. लक्ष्यसंगीतम्‌ -- विष्णु नारायण भातखंडे (संस्कृत ; 1910, १९३४)
  46. अभिनवरागमंजरी -- विष्णु नारायण भातखंडे (संस्कृत ; 1910, १९३४)
  47. हिंदुस्तानी संगीत पद्धति -- विष्णु नारायण भातखंडे (मराठी में)
  48. हिंदुस्तानी संगीत क्रमीक (छह भागों में) -- विष्णु नारायण भातखंडे
  49. संगीत तत्त्वदर्शक -- विष्णु दिगंबर पलुस्कर (20वीं शती)


प्रमुख वास्तुशास्त्रीय ग्रन्थ

३५० से भी अधिक ग्रन्थों में स्थापत्य की चर्चा मिलती है। इनमें से प्रमुख ग्रन्थ निम्नलिखित हैं-[1][2]
  • अपराजितपृच्छा (रचयिता : भुवनदेवाचार्य ; विश्वकर्मा और उनके पुत्र अपराजित के बीच वार्तालाप)
  • ईशान-गुरुदेवपद्धति
  • कामिकागम
  • कर्णागम (इसमें वास्तु पर लगभग ४० अध्याय हैं। इसमें तालमान का बहुत ही वैज्ञानिक एवं पारिभाषिक विवेचन है।)
  • मनुष्यालयचंद्रिका (कुल ७ अध्याय, २१० से अधिक श्लोक)
  • प्रासादमण्डन (कुल ८ अध्याय)
  • राजवल्लभ (कुल १४ अध्याय)
  • तंत्रसमुच्चय
  • वास्तुसौख्यम् (कुल ९ अध्याय)
  • विश्वकर्मा प्रकाश (कुल १३ अध्याय, लगभग १३७४ श्लोक)
  • विश्वकर्मा वास्तुशास्त्र (कुल ८४ अध्याय)
  • सनत्कुमारवास्तुशास्त्र
  • वास्तुमण्डन
  • मयशास्त्र (भित्ति सजाना)
  • बिम्बमान (चित्रकला)
  • शुक्रनीति (प्रतिमा, मूर्ति या विग्रह निर्माण)
  • सुप्रभेदगान Suprabhedagana
  • आगम (इनमें भी शिल्प की चर्चा है।)
  • ब्रह्मपुराण (मुख्यतः वास्तुशास्त्र, कुछ अध्याय कला पर भी)
  • वास्तुविद्या
  • प्रतिमालक्षणविधानम्
  • गार्गेयम्
  • मानसार शिल्पशास्त्र (कुल ७० अध्याय; ५१०० से अधिक श्लोक; कास्टिंग, मोल्डिंग, कार्विंग, पॉलिशिंग, तथा कला एवं हस्तशिल्प निर्माण के अनेकों अध्याय)
  • अत्रियम्
  • प्रतिमा मान लक्षणम् (इसमें टूटीई हुई मूर्तियों को सुधारने आदि पर अध्याय है।)
  • दशतल न्याग्रोध परिमण्डल
  • शम्भुद्भाषित प्रतिमालक्षण विवरणम्
  • मयमतम् (मयासुर द्वारा रचित, कुल ३६ अध्याय, ३३०० से अधिक श्लोक)
  • बृहत्संहिता (अध्याय ५३-६०, ७७, ७९, ८६)
  • शिल्परत्नम् (इसके पूर्वभाग में 46 अध्याय कला तथा भवन/नगर-निर्माण पर हैं। उत्तरभाग में ३५ अध्याय मूर्तिकला आदि पर हैं।)
  • युक्तिकल्पतरु (आभूषण-कला सहित विविध कलाएँ)
  • शिल्पकलादर्शनम्
  • समरांगण सूत्रधार (रचयिता ; राजा भोज ; कुल ८४ अध्याय, ८००० से अधिक श्लोक)
  • वास्तुकर्मप्रकाशम्
  • कश्यपशिल्प (कुल ८४ अध्याय तथा ३३०० से अधिक श्लोक)
  • भविष्यपुराण (मुख्यतः वास्तुशिल्प, कुछ अध्याय कला पर भी)
  • अलंकारशास्त्र
  • अर्थशास्त्र (खिडकी एवं दरवाजा आदि सामान्य शिल्प, इसके अलावा सार्वजनिक उपयोग की सुविधाएँ)
  • चित्रकल्प (आभूषण)
  • चित्रकर्मशास्त्र
  • मयशिल्पशास्त्र (तमिल में)
  • विश्वकर्मा शिल्प (स्तम्भों पर कलाकारी, काष्ठकला)
  • अगत्स्य (काष्ठ आधारित कलाएँ एवं शिल्प)
  • मण्डन शिल्पशास्त्र (दीपक आदि)
  • रत्नशास्त्र (मोती, आभूषण आदि)
  • रत्नपरीक्षा (आभूषण)
  • रत्नसंग्रह (आभूषण)
  • लघुरत्नपरीक्षा (आभूषण आदि)
  • मणिमहात्म्य (lapidary)
  • अगस्तिमत (lapidary crafts)
  • अनंगरंग (काम कलाएँ)
  • रतिरहस्य (कामकलाएँ)
  • कन्दर्पचूणामणि (कामकलाएँ)
  • नाट्यशास्त्र (फैशन तथा नाट्यकलाएँ)
  • नृतरत्नावली (फैशन तथा नाट्यकलाएँ)
  • संगीतरत्नाकर]] ((फैशन, नृत्य तथा नाट्यकलाएँ)
  • नलपाक (भोजन, पात्र कलाएँ)
  • पाकदर्पण (भोजन, पात्र कलाएँ)
  • पाकविज्ञान (भोजन, पात्र कलाएँ)
  • पाकार्नव (भोजन, पात्र कलाएँ)
  • कुट्टनीमतम् (वस्त्र कलाएँ)
  • कादम्बरी (वस्त्र कला तथा शिल्प पर अध्याय हैं)
  • समयमात्रिका (वस्त्रकलाएँ)
  • यन्त्रकोश (संगीत के यंत्र Overview in Bengali Language)
  • संगीतरत्नाकर (संगीत से सम्बन्धित शिल्प)
  • चिलपटिकारम् (Cilappatikaaram ; दूसरी शताब्दी में रचित तमिल ग्रन्थ जिसमें संगीत यंत्रों पर अध्याय हैं)
  • मानसोल्लास (संगीत यन्त्रों से सम्बन्धित कला एवं शिल्प, पाकशास्त्र, वस्त्र, सज्जा आदि)
  • वास्तुविद्या (मूर्तिकला, चित्रकला, तथा शिल्प)
  • उपवन विनोद (उद्यान, उपवन भवन निर्माण, घर में लगाये जाने वाले पादप आदि से सम्बन्धित शिल्प)
  • वास्तुसूत्र (संस्कृत में शिल्पशास्त्र का सबसे प्राचीन ग्रन्थ; ६ अध्याय; छबि रचाना; इसमें बताया गया है कि छबि कलाएँ किस प्रकार हाव-भाव एवं आध्यात्मिक स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति के साधन हैं।)



प्राचीन कृषि ग्रन्थ

सुभाषित संग्रह

क्रमांक
रचना
संग्रहकर्ता
काल
1
सुभाषितरत्नकोश
विद्याकर
१२वीं शताब्दी
2
सुभाषितावली
कश्मीर के वल्लभदेव
प्रायः ५वीं शताब्दी
3
सदुक्तिकामृत
श्रीधरदास
१२०५
4
सूक्तिमुक्तावली
जल्हण
१३वीं शताब्दी
5
सार्ङ्गधर पद्धति
सार्ङ्गधर
१३६३ ई
6
पद्यावली
अज्ञात
-
7
सूक्तिरत्नहार
सूर्यकलिंगारय
१४वीं शताब्दी
8
पद्यवेणी
वेणीदत्त
-
9
सुभाषितानिवि
वेदान्त देशिक
१५वीं शताब्दी
10
पद्यरचना
लक्ष्मण भट्ट
१७वीं शताब्दी के आरम्भ में
11
पद्य अमृत तरंगिणी
हरिभास्कर
१७वीं शताब्दी का उत्तरार्ध
12
सूक्तिसौन्दर्य
सुन्दरदेव
१७वीं शताब्दी का उत्तरार्ध




























































12 comments:

Sohail Ahmed said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Ravi kant yadav justiceleague said...

बहुत सराहनीय प्रयास कृपया मुझे भी पढ़े | :-)
join me facebook also ;ravikantyadava@facebook.com

Alice Taylor said...

I am very happy to read this. Appreciate your sharing

http://word-cookies-answers.com

Thu Lê said...

I was very impressed by this post, this site has always been pleasant news. Thank you very much for such an interesting post. Keep working, great job! In my free time, I like play game: douchebagworkout2.org. What about you?

Games 2 Girls said...

Great post,Thanks for providing us this great knowledge,Keep it up.
run3unblockedgame.com

Love Kpop said...

I like to get up early to go out and breathe fresh air. I feel that it is good for health and a good habit
http://19216811ll.com

prem kumar paswan said...

boardexamresults2018.in

ofrc passing marks
ibpscutoffmarks.in

bihar constable result 2017

ngocanhng said...

I like your all post. You have done really good work. Thank you for the information you provide, it helped me a lot. I hope to have many more entries or so from you.
Very interesting blog.
minecraft2.com.br

board exam Result said...

RRB Group D Cutoff 2018

RRB Group D Result 2018

RRB Allahabad Group Cutoff 2018

Railway Allahabad Group D Cutoff 2018

RRB Allahabad Group D Expected Cutoff 2018

Check Here

Know More

RRB Bangalore Group D Cutoff 2018

Railway Bangalore Group D Cutoff 2018

RRB Bangalore Group D Expected Cutoff 2018

Check Here

Know More

board exam Result said...

RRB ALP Result 2018

RRB Technician Result 2018

RRB ALP Cutoff 2018

RRB Technician Cutoff 2018

RRB Allahabad ALP Cutoff 2018

Railway Allahabad ALP cutoff 2018

RRB Allahabad ALP Expected Cutoff 2018

Check Here

Know More

RRB Patna ALP Cutoff 2018

Railway Patna ALP cutoff 2018

RRB Patna ALP Expected Cutoff 2018

Check Here

Know More

رنيا محمد said...

شركة مكافحة النمل الابيض بصفوى

ronald thomas said...

This is totally awesome. Although variety of article on this topic, this article contains some of the precious points which were never be read in other articles.
Hi